बंद करे

शनिचरा मंदिर

दिशा
श्रेणी ऐतिहासिक, धार्मिक

श्री शनिचरा मंदिर, मध्य प्रदेष शासन धार्मिक न्यास तथा धर्मस्व विभाग क नियन्त्रण का देवस्थान है। श्री शनिचरा मंदिर परिक्षेत्र को एक धार्मिक पर्यटन स्थल के रूप में विकसित किया जा रहा है। गत् वर्षों में यहाँ श्रृद्धालुओं की लगातार बढ़ती संख्या को देखते हुए अनेकों विकास कार्य एवं सुविधाओं का विस्तार किया गया है। प्रति शनिवार को मंदिर में हजारों की संख्या में श्रृद्धालु विभिन्न राज्यों – मध्यप्रदेश, राजस्थान, उत्तर प्रदेश, हरियाणा, पंजाब, दिल्ली, विहार, गुजरात तथा विदेशों में नेपाल, श्रीलंका, न्यूजीलेण्ड से आते हैं। शनीचरी अमावस्या पर यहाँ विशेष मेले का आयोजन होता है, जिसमें लाखों की संख्या में श्रृद्धालु आते हैं। शनिचरा पहाड़ी को एक सुदर, सौम्य व हरित् पहाड़ी बनाने, अनेक प्रकार की यात्री सुविधाओं का विस्तार करने, जैसे- पृथक बड़े स्नान कुण्ड, आदि का समर्पण स्थल, वस्त्र समर्पण स्थल, नीचे से पीने के पानी की सुविधा, धर्मशलाऐं आॅडिटोरियम, मार्केट शोध एवं आध्यात्मिक केन्द्र तथा रोप-वे की योजना विचाराधीन है। आगे आने वाले समय में शनिचरा मंदिर व आस-पास का क्षेत्र एक प्रसिद्ध धार्मिक पर्यटन स्थल होकर, मुरैना जिले के आर्थिक, सामाजिक प्रगति का केन्द्र बिन्दु होगा जिसके हम सब साक्षी होंगे। उक्त पुनीत कार्य में आप सब का सहयोग अपेक्षित है।

कैसे पहुंचें:

बाय एयर

निकटतम हवाई अड्डा ग्वालियर हवाई अड्डा है जो मुरैना से लगभग 30 किलोमीटर, भिंड से लगभग 80 किलोमीटर और श्योपुर जिले से लगभग 210 किलोमीटर दूर स्थित है

ट्रेन द्वारा

ग्वालियर और भिंड जिले में रेलवे स्टेशन है, जिससे ट्रेन द्वारा शनीश्चरा मदिंर पहुंचा जा सकता है ।

सड़क के द्वारा

सभी जिले बस द्वारा अच्छी तरह से जुड़े हुए हैं। पर्यटक स्वयं या किराए पर वाहन ले सकते हैं क्योंकि सभी पर्यटन स्थल सड़क मार्ग से अच्छी तरह से जुड़े हुए